Tag archive

Life

यादों की खुशबू

in poems

जब आती है, प्यार की, परवाह की, और तेरे एहसास की, परछाइयां| तब खुशबू से भर जाती है, जीवन की तन्हाइयां ।

Keep Reading

जीवन के रंग

in poems

जब मां बाबा के साथ रहे, तब सतरंगी त्योहार रहे। जब जीवन में साथी आया, तब नया दृष्टिकोण पाया। फिर पीछे कुछ छूट गया, मन के अंदर कुछ टूट गया। पिछले धुंधले परिदृश्य आज, मुखरित होकर कर रहे बात, कोई नही है अब आसपास, जिसका होना कुछ लगे खास। मत पूछो इस इक जीवन में,…

Keep Reading

नि:शब्द

in poems

नि:शब्द आज ये रात है, क्या आज नयी कोई बात है? क्यूं चांद तन्हा सा दिख रहा? तारे भी आज उदास है। क्या आज नयी कोई बात है? हां,….. तुम गये जो प्रवास को, कह गए आस की बात जो, हां, इस लिए मन यूं उदास है, हां, यहीं नयी वो बात है। जब साथ…

Keep Reading

वक्त का दरिया

in poems

सोचा था कि……., जब कभी वक्त नहीं होगा, एहसास की लहरों पर, मैं खुद को भिगो लूंगी । जब फूल भी ना होंगे तब खुश्क से मौसम में, पत्तों के खड़कने पर, संगीत बना लूंगी। पेड़ों पर आएगी, जब भी नयी तरुणाई, नव शब्द की माला से, नए गीत बना लूंगी। अब वक्त के बहते…

Keep Reading

मत भूलो

in poems

लिखित संविधान को, गणतंत्र के विधान को, मत भूलो, सशक्त करो। स्वाधीनता के अर्थ को, बलिदानी के रक्त को, मत भूलो,अनुरक्त बनो। हे भारत के वीर सपूतों, मत भूलो, उन भूलों को, जिनके कारण बर्बाद हुए, उन भूलों से ऊपर उठकर, फिर स्वर्णिम निर्माण करो।

Keep Reading

सड़क

in poems

खुली सड़क पर घूम रहा था, वो अनाथ बच्चा, मै बोली, तुम कुछ पढो,लिखो, यूं घूमना नहीं अच्छा । मै सड़क किनारे पला, बढ़ा, इस खुली सड़क पर सोता हूं। भूख से पिचका पेट लिए, भरने को इसे तरसता हूं। तुम बड़े लोग का पेट,जेब, हरदम रहता  है,भरा भरा, तभी तुम्हे तो दिखता है, हर…

Keep Reading

हे! नये साल

in poems

हे! नए साल, तू मुझे बता, क्या बात नयी होगी तुझमें ? क्या प्रात नयी होगी तुझमें ? या घात नयी होगी तुझमें ? क्या नए साल में, भूखों को तू रोटी दिलवाएगा ? या वृद्धों के आश्रम में तू, उनका बेटा लौटाएगा? सारी दुनिया जो जूझ रही, युद्धों को तू रुकवायेगा? या अनाचार की पीड़ा से, तू…

Keep Reading

अनकही सी बातें

in poems

कुछ अनकही सी बातें, जो कह रही हूं तुमसे, कम को अधिक समझना, ग़र हो सके जो तुमसे। तेरी बात में था मरहम, वो भी था इक ज़माना, अब काम का बवंडर, है व्यस्तता बहाना। प्रश्नो का है समंदर, और दर्द मेरे अंदर, बहने को है आकुल, ये सोच के हूं व्याकुल। परवाह तो है…

Keep Reading

1 2 3 5
Go to Top