Tag archive

Life

भरम

in poems

जो उम्मीदों के गठ्ठर, उठाए बैठे हैं, वो रिश्तों के चमन में मुरझाए बैठे हैं। खुद की कुव्वत का जिन को,भरम हो रहा, उनको लगता है,कि वो आसमां को उठाए बैठे हैं।

Keep Reading

अष्टांग योग

in poems

वैदिक ज्ञान है, वरदान। इन बातों का रखें ध्यान, नित्य योग और ध्यान करें, थोड़ा सा ‘प्राणायाम’ करें। ‘यम’, ‘नियम’ और ‘आसन’ से, जीवन में आनंद भरें, ‘प्रत्याहार,’ ‘धारणा’ से, स्वयं का उत्कर्ष करे, ‘ध्यान’, ‘समाधि’ से फिर जुड़ कर, जीवन परमानंद करे।  

Keep Reading

अमावस की रात

in Stories

अमावस का घनघोर अंधेरा और बांसुरी पर  बजती कोई मीठी सी धुन ,ना जाने किस रूह को किसकी तलाश है, किसका दर्द सिसकियां लेता है, रोज रात के सन्नाटे में, यह किस रूह की तड़प बांसुरी की धुन में सुनाई देती है, यहां के लोगों से सुना है, कि किसी बांसुरी वादक की रूह यहां…

Keep Reading

ध्यान

in Blogs

हमलोग उम्र लंबी करने में कामयाब हो गए हैं, लेकिन जीवन को आनंद पूर्ण बनाने में अभी तक अक्षम है। हम लोगों ने ऊंची अट्टालिकाएं  तो बनवा ली, लेकिन मन मंदिर का निर्माण नहीं कर पाए। जहां बैठकर साधना और ध्यान के कुछ पल दे सकें, मानव मन तब तक सुख के लिए भटकता रहेगा,…

Keep Reading

अहिंसा के पुरोधा

in Blogs

अहिंसा को यदि एक शब्द का महाकाव्य कहा जाए, तो उसके अनेक छंद इसी शब्द से प्रगट हो सकते हैं। महात्मा गांधी अहिंसा का प्रथम मानव छंद है ।गांधी मानवता के अलंकार हैं । 2 अक्टूबर को इस महा मानव ने जन्म लिया था। संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन को अहिंसा दिवस भी घोषित किया…

Keep Reading

आत्मानुशासन

in Blogs

स्वाधीनता सिर्फ एक शब्द नहीं, अनंत प्रतिक्षाओं,अनगिनत बलिदानों ,अतृप्त प्यास से उपजी एक जीवन यात्रा है। जिसमें विराम के लिए समय कहां ?स्वाधीनता के लिए तड़प की अलख यदि हमारे क्रांतिकारियों ने अपने खून देकर जगाई ना होती,तो हम और आप तो होते, लेकिन यह स्वाधीनता की सुगंध कहां होती? इस स्वाधीनता की सुगंध को…

Keep Reading

अंधकार से प्रकाश की ओर

in Blogs

संस्कृत भाषा में एक कहानी है, “तत् त्वम् असि” जिसमें ऋषि आरुणि अपने पुत्र श्वेतकेतु का अहंकार दूर करने के लिए उसे बरगद के बीज का दृष्टांत दिखाकर समझाते हैं, कि ‘एक बीज में विकास की अनंत संभावनाएं होती हैं, जो अनुकूल मिट्टी पानी और धूप पाकर विशाल वृक्ष का रूप ले लेती है। बीज…

Keep Reading

यादों की खुशबू

in poems

जब आती है, प्यार की, परवाह की, और तेरे एहसास की, परछाइयां| तब खुशबू से भर जाती है, जीवन की तन्हाइयां ।  

Keep Reading

जीवन के रंग

in poems

जब मां बाबा के साथ रहे, तब सतरंगी त्योहार रहे। जब जीवन में साथी आया, तब नया दृष्टिकोण पाया। फिर पीछे कुछ छूट गया, मन के अंदर कुछ टूट गया। पिछले धुंधले परिदृश्य आज, मुखरित होकर कर रहे बात, कोई नही है अब आसपास, जिसका होना कुछ लगे खास। मत पूछो इस इक जीवन में,…

Keep Reading

नि:शब्द

in poems

नि:शब्द आज ये रात है, क्या आज नयी कोई बात है? क्यूं चांद तन्हा सा दिख रहा? तारे भी आज उदास है। क्या आज नयी कोई बात है? हां,….. तुम गये जो प्रवास को, कह गए आस की बात जो, हां, इस लिए मन यूं उदास है, हां, यहीं नयी वो बात है। जब साथ…

Keep Reading

1 2 3 6
Go to Top