Category archive

poems

दुनियादारी

in poems

कुछ नर्म से रिश्तो का ,अधूरा सा फसाना है। ग़र समझ सको ,समझना ,यह दर्द पुराना है। जब साथ हो अधूरा ,तो लोग मचलते हैं। जख्मों पर छिड़कने को, नमक लेकर ही चलते हैं । घर में खुशी हो ,चाहे गम की हवा बही हो। देकर बुलावा घर में ,अनजान से रहते हैं। जब याद…

Keep Reading

जीवन चक्र

in poems

आस-पास बिखरे रंगों में, बादल पर्वत और उपवन में, जीवन विस्तारित होता हर कण में, इनमें गुंजित ध्वनियां देखो क्या कहती है? कहती हैं, हर रंग में जीवन, खिलता ही है, उमड़ घुमड़ कर बादल सा मन, खाली होता। खाली होकर ऊपर उठता, पर्वत सा फिर,और उपवन में, फूलों सा मन, विकसित होता। यही चक्र…

Keep Reading

सूरज

in poems

हर सुबह उम्मीदों का सूरज, उगता ढलता दे जाता है , कुछ स्वप्न नये, कुछ पंख नये, कुछ अरमानों के रंग नये , देता है कुछ संदेश नए , नवजीवन के परिवेश नये, ठिठुरे सिकुड़े मनोभावों को, उष्माओं के कुछ अंश नये। जब नए उम्मीदों का दीपक , बुझने को आतुर होता है, तब सूरज…

Keep Reading

हे नए साल

in poems

सपनों की दीर्घ वीथिका में, अगणित रंगों के इंद्रधनुष, लेकर आए ये नया साल । कुछ हास नए ,उल्लास नए , जीवन के कुछ अभिलाष नए, है पलक पांवड़े बिछे हुए , स्वागत में तोरण सजे हुए, आना तो खुशियां ले आना, दुनिया के आंसू ले जाना, इस वर्ष बहुत तड़पाया है, दुनिया को कितना…

Keep Reading

साथ तेरे

in poems

जो समय बिताया, साथ तेरे, वो समय नहीं छोड़ा मैं ने, वो हरपल मेरे साथ रहा, तेरी यादों के एहसास तले। जब साथ तुम्हारे होते थे, कभी हंसते थे, कभी रोते थे। अब हंसना,रोना छोड़ दिया, दुनियादारी के बोझ तले। जब संग तुम्हारे, मीलों तक, बेमतलब घूमा करते थे, वो यादें अब भी जीने का,…

Keep Reading

छठ पूजा

in poems

सुबह सवेरे प्रथम किरण के , पहले उठकर सज जाना , फिर छठ की पूजा को तत्पर, नदी किनारे पर जाना। मां से ज्यादा हम बच्चों का , उत्साहित होकर गाना, नदी किनारे जाने की , बेताबी को हमने जाना । ठंडे पानी में उतर सूर्य की, पूजा को ,कर घर आना । आनंदित करता…

Keep Reading

in poems

घनघोर अमावस में आस की, अंतिम किरण अवशेष हैं, डूबती ही जा रही, मानवता, आकंठ भ्रष्टाचार में, फिर भी जीवन के तट पर, ‘उम्मीद का नाविक’ अकेला शेष है।

Keep Reading

स्वदेश

in poems

है राम की धरा ये, अपना स्वदेश प्यारा, अर्पित करेंगें तन मन, संकल्प है हमारा, अविचल अडिग रहेंगे, आए कोई भी झंझा , हर घात से लड़ेंगे , हो प्रात या हो संझा। स्वाधीनता का परचम, ये याद है दिलाता , बलिदान और लहू का, इतिहास है बताता। कीमत चुकाई है जब, कई पीढ़ियों ने…

Keep Reading

पीहर

in poems

सावन की बदरी फिर छाई, मस्त हवाएं फिर बौराई , बूंदें बरसी , सड़कें भींगी, भींग गई, मन की बगियां, मां बाबा फिर याद आ गये, याद आई उनकी बतियां, हर सावन पर पीहर से, जब जब आमंत्रण आता था, मन मयूर तब नाच नाच कर, अपना जश्र मनाता था । मां बाबा के होने…

Keep Reading

नाप-तौल

in poems

लेन-देन की नाप-तोल, हर रिश्ते पर भारी है। रिश्तों को पैसों से तौलना, दिमागी बीमारी है। उपहारो की कीमत से, रिश्तों का मोल नहीं होता, रिश्ता होता है, भाव भरा, इसका कोई जोड़ नहीं होता, लोहे की जंजीरों सी है, लेन-देन की अभिलाषा, दम घुटता है, इसे देखकर, घुट जाती सबकी आशा। क्यो करते हो,…

Keep Reading

1 2 3 12
Go to Top