Category archive

poems

तेरा जाना…….|

in poems

तेरे जाने की धुन सुनकर , वसंत कहीं रुक जाता है, आंखों का आंसू ओसबिंदु बन, घासों पर बिछ जाता है । शिशिर ऋतु है ,तेज हवा , सूरज की आंख मिचौली है। है भींगें से कुछ नयन  और, होठों पर हंसी ठिठोली है । आंखों में आंसू रुक जाता, तो कोहरा कोहरा दिखता है…

Keep Reading

संदेश

in poems

गणतंत्र की सुनहरी, फिर शाम आ रही है। सूरज की लालिमा यह, संदेश गा रही है । हम सब हैं भाई बंधु , यह देश है हमारा, अक्षुण्ण है, जिसकी संस्कृति, अनमोल भाईचारा। मिलजुल कर हम जिएंगे, फिर ज़हर ना पिएंगे, इंसानियत के दुश्मन, हमको नहीं गवारा। चलो यह प्रण भी ले लें । अभी…

Keep Reading

दोषी कौन ?

in Stories

राघव की उम्र यही कोई 18 वर्ष की रही होगी ,घर में सिर्फ दादी और पोता राघव |आपस में लड़ते झगड़ते, लाड़- दुलार करते ,हंसी-खुशी के पल बिता रहे थे |लेकिन अचानक दादी की तबीयत बिगड़ी और वेैद्य ने उनके अंतिम समय का एलान कर दिया |अब दादी को यह चिंता हो गई कि, राघव…

Keep Reading

तलाश

in poems

महलों की सिसकती दीवारों को, कौन शब्द दे पाएगा? स्वर्ण दिनारों के शोरगुल में , दर्द दफन हो जाएगा | रत्न जड़ित वस्त्रों की चकमक , सेवक, दासों का दल बल , अंतर्मन की पीड़ा पर , मरहम कौन लगाएगा ? श्वासों पर भी पहरे जिनके, हंसी पे ताले जड़ते हो, ऐसी घुटती श्वांसों का, शोर…

Keep Reading

कलयुग

in poems

जब त्रेता के स्वर्ण हिरण ने, सीता हरण करा डाला, जब सत्य की खातिर हरिश्चंद्र को, सतयुग ने बिकवा डाला, तब कलयुग की है क्या बिसात ? जो स्वर्ण मोह से बच जाए, या फिर असत्य से दूर रहे , और सत्य वचन पर टिक जाए , अब तो कलयुग की बारी है, और लोलुपता…

Keep Reading

फिक्र

in poems

है फिक्र उन्हे मेरी कितनी, ये मुझको भी मालूम नही, लोगों से कहते फिरते हैं, क्या कहते हैं, मालूम नही| है जेब गरम उनकी कितनी, ये बतलाना होता है, मेरी जेबों के छेदों को, गिनकर जतलाना होता है|   पैसों की गर्मी अहंकारवश, कब शोला बन जाती है! रावण की सोने की लंका, कब मिट्टी…

Keep Reading

शंकर

in poems

जीवन के दहकते प्यालों में, हर पीड़ा को जल जाने दो, उस राख से नवनिर्माण करो, सुख परिभाषित हो जाने दो| बाधाओं का उत्तुंग शिखर, उस पर बर्फीली आंधी को, जिसने झेला स्थिर होकर, उसमें वासित होते शंकर|

Keep Reading

ख्वाहिशें

in poems

चलो, बढ़ती हुई उम्र के साए में बैठकर , जीवन की तेज धूप से , कुछ फासले कर लें, चाहतों से भरे इस जीवन को , चलो, आज खाली कर लें , रोज बदलते किरदारों से , आज ,अभी ,तौबा कर लें , तुम अपनी तन्हाइयों को , रुखसत कर दो, हम अपने सन्नाटों से…

Keep Reading

प्रसंगवश

in poems

कुछ प्रासंगिक उत्तर के लिए, हैं संदर्भित कुछ प्रश्न मेरे| क्या शिक्षा सिर्फ प्रचार तक, या आचरण व्यवहार तक? स्वर्णिम इतिहास हमारा था, ये देश जो इतना प्यारा था| गंगा यमुनी तहज़ीब ने हम को, बडे़ प्यार से पाला था| नदियों को मैला कर डाला, वृक्षों की चिता जला डाली, वर्षावन जाने कहां गए? मौसम…

Keep Reading

उर्मिला का वनवास

in poems

उर्मिला बोली लक्ष्मण से, व्यथित हृदय पर मृदु वचन से, तुमको भाई का साथ मिला, मुझे महलों का वनवास मिला, दोष बता जाते मेरे, तो दूर उन्हें मैं कर पाती, फिर संग तुम्हारे जा पाती, और साथ तुम्हारे रह पाती, यूं बिना कहे तुम चले गए, इस भवसागर में छोड़ गए, किस से पूछूं किस…

Keep Reading

1 2 3 10
Go to Top