Tag archive

Human

जीवन यात्रा

in poems

ज़िन्दगी में आगे जैसे ही बढ़ते चले गये, कदमों के निशां खुद ही मिटते चले गये, किसी ने मुझे पीछे पुकारा ज़रूर था, वो आवाज़ दुनिया के शोर में घुटते चले गये। बढ़ते हुए कदम ने, ला खड़ा किया जहाँ, उस अर्श से अब फर्श भी दिखता नहीं मुझे, तारीख की गुस्ताख़ियां तो देखिये हुज़ूर, ग़र…

Keep Reading

मानवता

in poems

निज सुखो की मरीचिका में, खो न जाना, जीवन बदलता है यहाँ, ये भूल न जाना, फूल है जीवन में ग़र, तो शूल भी है, चूर मत हो गर्व में, क्योंकि यहाँ पर धूल भी है, धूसरित हो जाएँगी, वो गर्व की आँधियाँ नशीली, हौसला दे तू उन्हें बढ़कर, जिनकी हुई है आँखे गीली  ।

Keep Reading

सन्नाटे

in poems

दुःख को मूक, सुखो को मुखरित हो जाने दो, सन्नाटे है बातें करते, हर दम मेरे संग ही रहते, सन्नाटों को और विगुंजित हो जाने दो, दुःख को मूक, सुखों को मुखरित हो जाने दो, घोर अंधेरा है घिर आया, राह नही पड़ता दिखलाई, कितनी दूर मैं चली आई, जीवन के आँगन में, धूप निकल…

Keep Reading

बचपन

in poems

आँख खुली और टूट गया, एक सपना था जो छूट गया, माँ की लोरी पिता की थपकी, जब जब मेरी आँखें झपकी, देती है मुझको दिखलाई, अपने शहर की याद जो आई, गुल्ली डंडा, खाना पानी, करती थी अपनी मनमानी, उसपर पड़ी डाँट जो खानी, याद आ गयी नानी, मेरे बचपन की कहानी, छतरी थी…

Keep Reading

योग दिवस

in poems

हिन्द की जब बात हो, आस्था के मर्म में, योग के संदर्भ में, मानव की ऊर्जाओं का, सफलता की चर्चाओं का, तन मन योग सिक्त हो, विश्व योग दीप्त हो, प्राण का संधान हो, विश्व का कल्याण हो, प्रेम का उद्भाव हो, माधुर्य का प्रभाव हो, शत्रुता का अभाव हो, हर प्राण में सद्भाव हो ।

Keep Reading

जीवन का सार

in poems

हम रोज़ बढ़ते हैं, एक कदम और, अपनी मृत्यु की ओर, फिर क्यों मचा हुआ है, अनर्गल बातों का शोर, दिव्यता की अनुभूति हो, या करुणा का सार, इनके लिए खोलें, हम हृदय के द्वार, जीवन को न बनाये, अनंत लालसाओं का कारागार, मिटने के पहले जीवन, जीने की ले लें हम दीक्षा, वर्ना नष्ट…

Keep Reading

Go to Top