Category archive

poems - page 3

ओ,सखि………!

in poems

बात दिल की तुम अपनी, छुपाया न करो। बात जो भी हो, वो तुम बताया करो। बातों बातों में ही, रूठ जाती हो, दर्द के समंदर में, डूब जाती हो। कभी रेत के सहरा पे भी, आ जाया करो। रेत में भी खिलते हैं, कांटों पे फूल, जिन्हें देखकर उम्मीदें, जगाया करो। हर बात  का…

Keep Reading

बचपन

in poems

मस्तमौला फक्कड़पन, मासूमियत भरा बचपन, महंगे खिलौनों की दरकार नहीं। माटी से काम चला लेंगे,   हम आनंद मना लेंगे। ये भोलापन,ये अल्हड़पन, जिसको कहते हैं,सब बचपन।

Keep Reading

मेरे बाबा

in poems

  ”रहे ना कोई सपने बाकी, नाप ले तू अंतरिक्ष की थाती।” कहते रहते, बाबा मेरे, जब उनके पास मैं जाती, उनके ऊंचे सपनों को मैं, देख-देख घबराती। आते जाते डांटा करते, पढ़ती क्यों नहीं दिखती, जब देखो तब बातों में ही, समय नष्ट क्यों करती, जो बातें तब थी चुभती, आज समझ में आती,…

Keep Reading

यादों की खुशबू

in poems

जब आती है, प्यार की, परवाह की, और तेरे एहसास की, परछाइयां| तब खुशबू से भर जाती है, जीवन की तन्हाइयां ।  

Keep Reading

मातृदिवस

in poems

मां ,तू पास नहीं पर, मुझमें स्पंदित रहती, मेरे जीवन के हर पग पर, तू प्रतिबिंबित रहती। पता नही, कैसे?पर, तू आभासित रहती। जीवन के हर पथ पर, मुझको परिभाषित करती। आती जाती बाधाओं को, तू बाधित कर जाती, हिचकोले खाते जीवन को, तू ही राह दिखाती। संदर्भित इस मातृदिवस पर, फिर प्रसंग है आया,।…

Keep Reading

नींव का पत्थर

in poems

जिस की कोमल अनुभूति से, श्वांसे धड़क रही हैं, बन के घर के नींव का पत्थर, फिर भी सिसक रही हैं। उसे “एक” दिन प्रेम प्रर्दशन में, दुनिया न समेटे, जो दुनिया को नवजीवन, और देती बेटी बेटे। जाकर कोई समझाओ, दुनिया उनके आंसू पोंछे, तब सार्थकता मातृदिवस की, जब मांओं की पीड़ा सोखे।

Keep Reading

शकुन्तला

in poems

क्रोध को जीता नहीं, और दे दिया अभिशप्त जीवन। शकुन्तला जब बैठ कुटिया में, कर रही थी, मधुर चिंतन। दोष उसका बस यही था, देख न पाई प्रलय को, भावना में बह गयी, पी गयी पीड़ा के गरल को। निर्दोष शकुन्तला सोच रही, वो किस समाज का हिस्सा है? अपने अस्तित्व को खोज रही, ये…

Keep Reading

जीवन के रंग

in poems

जब मां बाबा के साथ रहे, तब सतरंगी त्योहार रहे। जब जीवन में साथी आया, तब नया दृष्टिकोण पाया। फिर पीछे कुछ छूट गया, मन के अंदर कुछ टूट गया। पिछले धुंधले परिदृश्य आज, मुखरित होकर कर रहे बात, कोई नही है अब आसपास, जिसका होना कुछ लगे खास। मत पूछो इस इक जीवन में,…

Keep Reading

नि:शब्द

in poems

नि:शब्द आज ये रात है, क्या आज नयी कोई बात है? क्यूं चांद तन्हा सा दिख रहा? तारे भी आज उदास है। क्या आज नयी कोई बात है? हां,….. तुम गये जो प्रवास को, कह गए आस की बात जो, हां, इस लिए मन यूं उदास है, हां, यहीं नयी वो बात है। जब साथ…

Keep Reading

वक्त का दरिया

in poems

सोचा था कि……., जब कभी वक्त नहीं होगा, एहसास की लहरों पर, मैं खुद को भिगो लूंगी । जब फूल भी ना होंगे तब खुश्क से मौसम में, पत्तों के खड़कने पर, संगीत बना लूंगी। पेड़ों पर आएगी, जब भी नयी तरुणाई, नव शब्द की माला से, नए गीत बना लूंगी। अब वक्त के बहते…

Keep Reading

Go to Top