Tag archive

India patriotism

आरक्षण

in poems

स्वतंत्रता की स्वर्ण-जयन्ती को, बीत गए कई साल। जातिवाद के आरक्षण से, प्रतिभाएं अब भी बेहाल। श्रम का हो सम्मान, सभी को अवसर मिलें समान। अभिनन्दित हो युवा देश का, हो प्रतिभाएं गतिमान। एक बार फिर ज्ञानमार्ग जब, प्रक्षालित हो जाएगा। फिर से अपना देश,ये “भारत” विश्व गुरु बन जाएगा।

Keep Reading

व्योम,……धरा से।

in poems

  हंस कर कहता, व्योम, धरा से। सूरज चांद सितारे, ये हैं मेरे सारे । तेरे अपने कौन ? बता मुझे, न रह मौन। धरती ने ली अंगड़ाई, फिर थोड़ी शरमाई, अगणित चांद सितारे मेरे, क्यूं जलता है भाई ? मोदी ने भारत चमकाया, राष्ट्रवाद परचम लहराया। जिसकी चमकीली ऊर्जा ने, ऊंच नीच का भेद…

Keep Reading

क्रिकेट की बात

in poems

खेल का मैदान हो, या युद्ध का आह्वान हो, खेल कर पछाड़ दो, युद्ध हो दहाड़ दो। फिर क्रिकेट की बात हो, या कश्मीर पर आघात हो। धूल हम चटाएगें, प्रतिद्वंद्वी उठ न पाएंगे। शेर ए हिन्द सज्ज हो, जीत में निमज्ज हो।

Keep Reading

Go to Top