ज़न्नत-ए-एहसास

in poems

ख्वाबों की टोकरी, ख्वाहिशों का बोझ, जीवन की डोर से ,बंधा इनका छोर। श्वांसे हैं गिनती की,जाना है दूर, अधूरी सी ख्वाहिश से, इंसां मजबूर। कर्मों की टोकरी ही, जाएगी साथ, बाकी रह जाएगा, धरती के पास। छोड़ो इन ख्वाबों और ख्वाहिशों का बोझ, चलो, जिएं ऐसे जैसे, ज़न्नत-ए-एहसास तब सुखद हो जाएगा, धरती पे…

Keep Reading

विद्रोही स्वर

in poems

मैं उड़ूंगी, गिरूंगी, संभलूंगी, उठूंगी, लेकिन तुम मुझे मत बताओ , कि मुझे कैसे चलना है? मैं हॅंसूगी, खिलखिलाऊॅंगी, रोऊॅंगी, चिल्लाऊॅंगी, लेकिन तुम मुझे मत बताओ , कि मुझे कैसे बात करनी है? तुम भी तो ज़ोर से बोलते हो, ज़ोर से हंसते हो,ज़ोर से चिल्लाते हो, ज़ोर से चलते हो, जब मैंने तुम्हें नहीं…

Keep Reading

मुक्तिमार्ग

in poems

प्रतिपल घटते इस जीवन में, सोच रही थी खड़ी खड़ी, संग्रह करने की चाहत क्यों, करता इंसां घड़ी घड़ी, खाली हाथ ही आया है जो , खाली हाथ ही जाएगा, कर्मों का लेखा जोखा ही, स्मृतियों में रह जाएगा। महल, दुमहले ,घोड़े, हाथी, नहीं बनेंगे तेरे साथी, करुणा ,परोपकार की थाती, मुक्ति मार्ग दिखलाएगा। जलबिंदु…

Keep Reading

ख़ौफ ए क़हर

in poems

सन्नाटे चीख रहे, और ध्वनियां हुई मौन है। मानवता को लील रहा, जो ऐसा दानव कौन हैं? जीवो पर निर्ममता, आखिर अपना रुप दिखाएगी ही, ख़ौफ़ ए क़हर का मतलब भी, दुनिया को समझाएगी भी। निर्दयता के चरम बिन्दु को, छूकर भी जो गर्वित है। उनको अपने अणुमात्र से, ऐसा सबक सिखाएगी भी। ये प्रकृति…

Keep Reading

विडंबना

in poems

रक्तिम है कुरुक्षेत्र की माटी , चीख रही है अब भी घाटी, कर्तव्यों से आंख मूंदकर, बन जाना गांधारी , ऐसी थी क्या लाचारी ? लालच के दावानल, जब अपनों को झुलसाएंगे , कलयुग की इस विडंबना में, कृष्ण कहां से आएंगे ? सिंहासन पर यदि विराजित, धृतराष्ट्र हो जाएंगे , प्रतिभाओं के चीरहरण पर…

Keep Reading

शांता ताई

in Stories

शांता ताई  उम्र के उस पड़ाव पर थी, जब व्यक्ति अपने गृहस्थ जीवन की जिम्मेदारियां पूर्ण कर अपने जीवन के फुर्सत के क्षणों से उपजे खालीपन को अपनों के सानिध्य से और भगवत भजन से भर लेना चाहता है| लेकिन रिक्तता कि अनुभूतियों से रिक्त हो पाना, उच्च कोटि का अध्यात्म होता है| जिसे पाना,…

Keep Reading

Go to Top