Author

Vandana Rai - page 2

Vandana Rai has 105 articles published.

पिताजी के अंग्रेजी, उर्दू के कुहासे के बीच, मैंने अपनी माँँ के लोकगीतों को ही अधिक आत्मसात किया। उसी लोक संगीत की समझ ने मेरे अंदर काव्य का बीजा रोपण किया। "कवितानामा" मेरी काव्ययात्रा का प्रथम प्रयास नहीं है। इसके पूर्व अनेक पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशनार्थ प्रेषित की, लेकिन सखेद वापस आती रचनाओं ने मेरी लेखनी को कुछ समय के लिए अवरुद्ध कर दिया था। लेकिन कोटिशः धन्यवाद डिजिटल मीडिया के इस मंच को, जिसने मेरी रुकी हुई लेखनी को पुनः एक प्रवाह, एक गति प्रदान कर लिखने के उत्साह को एक बार फिर से प्रेरित किया। पुनश्च धन्यवाद!☺️ वंदना राय

उर्मिला का वनवास

in poems

उर्मिला बोली लक्ष्मण से, व्यथित हृदय पर मृदु वचन से, तुमको भाई का साथ मिला, मुझे महलों का वनवास मिला, दोष बता जाते मेरे, तो दूर उन्हें मैं कर पाती, फिर संग तुम्हारे जा पाती, और साथ तुम्हारे रह पाती, यूं बिना कहे तुम चले गए, इस भवसागर में छोड़ गए, किस से पूछूं किस…

Keep Reading

मातृभूमि

in poems

वो जीना भी क्या जीना है, जो देश हित में जी न सके, वो मरना भी क्या मरना है, जो मातृभूमि पर मर न सके। कितने अनजाने वीरों ने, अपने जो रक्त बहाएं हैं, इस देश के मिट्टी पानी में, उन वीरों की गाथाएं हैं। झांसी की मिट्टी कहती हैं, हर बाला लक्ष्मीबाई हो, पंजाब…

Keep Reading

आरक्षण

in poems

स्वतंत्रता की स्वर्ण-जयन्ती को, बीत गए कई साल। जातिवाद के आरक्षण से, प्रतिभाएं अब भी बेहाल। श्रम का हो सम्मान, सभी को अवसर मिलें समान। अभिनन्दित हो युवा देश का, हो प्रतिभाएं गतिमान। एक बार फिर ज्ञानमार्ग जब, प्रक्षालित हो जाएगा। फिर से अपना देश,ये “भारत” विश्व गुरु बन जाएगा।

Keep Reading

सावन

in poems

मन ने फिर आवाज लगाई, अब तो रहे न बाबा-आई। जो कहते सावन में आओ, भाई को राखी बंधवाओ। इस आमंत्रण से गर्वित हो, जब-जब मैं पीहर को जाती, आंखों में नेह-अश्रु लिए तब, बाबा-आई को मैं पाती। न वैसा आमंत्रण है,अब। न वैसा त्योहार……। सम्बन्धों के खालीपन से, अनुगुंजित आवास……।

Keep Reading

भरम

in poems

जो उम्मीदों के गठ्ठर, उठाए बैठे हैं, वो रिश्तों के चमन में मुरझाए बैठे हैं। खुद की कुव्वत का जिन को,भरम हो रहा, उनको लगता है,कि वो आसमां को उठाए बैठे हैं।

Keep Reading

बात

in poems

बात निकली है तो, बात पे बात निकलेगी। बीती बातों की पूरी, बारात निकलेगी। शिकवा उनको भी है, शिकायत हमको भी है। बढ़ेगी जो बात तो, आंखों से बरसात निकलेगी भावों के पत्ते तो, झड़ ही गये। हो दिल में बची आस, तो मुलाकात निकलेगी।

Keep Reading

रिश्तों के हिम

in poems

जो मैंने कहा था, वो आप ने सुना नही, जो मैंने कहा नहीं, वो आप ने सुना था। रिश्तों के ये जो बाने हैं, वो हमने खुद ही ताने है। थोड़ा थोड़ा आगे बढ़कर, रिश्तों के हिम को पिघलाएं, मैं थोड़ा सा आगे आऊं, वो थोड़ा सा पीछे जाएं, फिर अपने इस तालमेल को, ये…

Keep Reading

बरखा रानी

in poems

बरखा रानी तेरा पानी, हर मन को हरषाता। तेरा आना उमड़ घुमड़ कर, तन पुलकित हो जाता। बरखा बोली, ‘धरती रानी’, तेरा जीवन,मेरा पानी, फिर क्यूं व्यर्थ बहाती, ज्यादा बरसूं, कद्र नहीं, कम बरसूं, तो सब्र नहीं।  

Keep Reading

ध्वनियां

in poems

अक्सर हम वो सुन नहीं पाते, जो ये दुनिया कहती हैं। और कभी हम बिना कहे भी, बहुत कुछ सुन जाते है। वे ध्वनियां जो ध्वनित नहीं हो, ज्यादा शोर मचाती है। दिन का चैन उड़ा देती हैं, रातों को जगाती हैं।

Keep Reading

चैरेवेति

in poems

“चैरेवेति चैरेवेति” उपनिषदों का है, आख्यान। गुरु शिष्य परंपरा का, रखें हम सदा ही मान। अंधकार का तोड़े दम्भ, और बने प्रकाश स्तम्भ लक्ष्य भी प्रशस्त हो, ज्ञान भी सशक्त हो। प्रात हो या रात हो, ज्ञान की ही बात हो, पुनर्जागरण लाएं हम, स्वर्णिम देश बनाएं हम।

Keep Reading

Go to Top