जो जस करि………!

in Blogs

जब राम के बाणों से धराशाई रावण मरणासन्न था, तब राम ने लक्ष्मण से कहा, कि लक्ष्मण रावण अब कुछ ही देर का मेहमान है, उसके साथ उसका अमूल्य ज्ञान भी समाप्त हो जाएगा। इसके पहले तुम उसके पास जाकर उसके ज्ञान से स्वयं को आलोकित कर लो।

जब लक्ष्मण रावण के सिरहाने जाकर खड़े हुए, तो रावण ने जो पहली बात कही, वह यह कि जिसे ज्ञान प्राप्त करना होता है, वह गुरु के चरणों में नतमस्तक होता है, सिर पर सवार नहीं होता ।जब लक्ष्मण को अपनी भूल का भान हुआ, तब वह उसके पैरों की तरफ जाकर खड़े हुए और रावण ने उन्हें जीवन मंत्र दिया, कि कोई भी उत्तम विचार जो लोक कल्याण के लिए हो, उसे मूर्त रूप देने में ज्यादा समय बर्बाद मत करो।

जितनी  जल्दी कर सको कर डालो। लेकिन अनुचित कर्म करने से पहले सौ बार उसके दुष्परिणाम के विषय में सोच लो। रावण के कहे गए शब्द कुछ इस प्रकार थे, मैंने सोचा था, स्वर्ग तलक कोई सीढ़ी बनवाऊंगा। और शिव की जटा से गंगा को लंका में ले आऊंगा। पर आज आज करते करते रह गया मेरा वह शुभ कर्म। पर नारी चोरी करने का कर डाला काम बड़ी जल्दी। परिणाम उसी का यह पाया छोड़ा संसार बड़ी जल्दी।

रावण का एक गलत कदम ही उसके विनाश का कारण बना, अन्यथा रावण जैसा ज्ञानी और कुबेर के खजाने से संपन्न व्यक्ति, जिसके लिए कह सकते हैं, ‘”न भूतो न भविष्यति”‘ का ऐसा अंत हुआ कि, एक लाख पूत सवा लाख नाती, ता रावण घर दिया न बाती।