जीवन

in poems

फूलों के लघु जीवन से भी,

सीखो और सिखाओ,

जीवन आनंद बनाओ,

जीवन को अपनाओ ।

क्या हुआ जो रूठ गया,

सपना था गर टूट गया,

फिर अपने सोए पौरुष को,

एक बार आजमाओ,

जीवन आनंद बनाओ,

जीवन को अपनाओ।

जंगल की सुंदरता देखो,

और चिड़ियों का उपवन देखो,

हर जीवन कितना सुंदर है,

मन परिवर्तन लाओ,

जीवन को अपनाओ।

झरनों के अपने सरगम है,

हवाओं की अपनी गुनगुन है,

सूरज की अपनी गर्मी है,

चांद की अपनी शीतलता,

अलग अलग गुण होने पर भी,

सब कुछ कितना सुंदर लगता,

तुम अपने  गुण  निखराओ,

जीवन आनंद बनाओ ,

जीवन को अपनाओ।‎