श्रद्धांजलि

in poems

माँ तू चली गयी
और पीछे छोड़ गयी
गहरी पीड़ा की रेख
अवसादों का कुञ्ज
जिसे अब तू कभी न पायेगी देख
ईश्वर के दरबार में तेरा हो अभिषेक
निर्वासित सा जीवन जीकर
सुख दुःख से निर्लिप्त
रही परिजनों से अतृप्त
शिव की नगरी काशी में
कर के जीवन दान
परमपिता के चरणो में
अब हो तेरा नया विहान
जीवन के अवसान में
एकाकीपन का दंश
रहा देता तेरा वंश
क्रूरता के वेश में
लोग रहते जिस देश में
आना मत उस परिवेश में
दुखों का जहाँ खजाना है
पीड़ा का आना जाना है ।