बचपन

in poems

आँख खुली और टूट गया,

एक सपना था जो छूट गया,

माँ की लोरी पिता की थपकी,

जब जब मेरी आँखें झपकी,

देती है मुझको दिखलाई,

अपने शहर की याद जो आई,

गुल्ली डंडा, खाना पानी,

करती थी अपनी मनमानी,

उसपर पड़ी डाँट जो खानी,

याद आ गयी नानी,

मेरे बचपन की कहानी,

छतरी थी बहुत पुरानी,

उसपर बारिश का पानी,

नाले भर भर उफनाते,

उसमें हम नाव चलाते,

और बहुत दूर चले जाते,

फिर भाई मुझे पकड़ कर,

घर वापस ले आते,

माँ रगड़ रगड़ नहलाती,

फिर खूब उपदेश सुनाती,

मुझसे कसमें दिलवाती,

मैं बाज़ कभी ना आती,

फिर फिर करती मन मानी,

बचपन की याद सुहानी,

प्यारे बचपन तुम आओ,

मेरे वो पल लौटाओ।