जीवन की साँझ

in poems

जीवन की साँझ
और तन्हाईयो का डेरा
सूरज की रोशनी पर
है बादलो का घेरा
मन मेरा कर रहा क्यूँ
यादों के घर का फेरा
राहों पे चलते चलते
बड़ी दूर आ गये है
कोई मुझे बताए
घर का पता जो मेरा
दम भर के साँस ले लूँ
दुनिया शोर गुल का मेला ।